WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

ITR दाखिल करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए 2024

ITR दाखिल करने की अंतिम तिथि निकट है। वर्तमान जानकारी के अनुसार अभी अंतिम तिथि 31 जुलाई 2024 है। यदि आप ITR फिल करने जा रहे है तो आपको कुछ मूलभूत बातों का ध्यान रखना चाहिए जिससे बाद में होने वाली किसी असुविधा से बचा जा सके। आज के आर्टिकल में हम लोग कुछ प्रमुख बिंदुओं के तहत ITR भरते समय बरती जाने वाली सावधानियां के विषय में बात करेंगे।

ITR को अंतिम तिथि से पहले भरें

आईटीआर फाइल करने के लिए अंतिम तिथि का इंतजार न करें और न ही यह सोचे की आईटीआर फाइल करने की अंतिम तिथि बढ़ाई जाएगी क्योंकि पास्ट में ऐसा हो चुका है जब अंतिम तिथि नहीं बढ़ी और लोगों को Fine के साथ ITR भरना पड़ा।

टैक्सेबल इनकम की गणना कर के रखें

कर योग्य कुल आय वह राशि होती है जो आपकी सभी स्रोतों से होने वाली कमाई में से आयकर अधिनियम के तहत मान्य कटौतियों और निवेशों को घटाने के बाद बचती है। इसमें वेतन के अलावा किसी अन्य स्रोत जैसे किराए, ब्याज, लाभांश आदि से हुई आय भी शामिल होती है। मानक कटौती और भविष्य निधि जैसे मदों के तहत कटी राशि को घटाने के बाद जो राशि बचती है, वही आपकी कर योग्य आय होती है।

HDFC NIFTY100 Low Volatility 30 Index Fund 

वर्तमान आयकर प्रणाली

भारत में वर्तमान में दो आयकर प्रणालियाँ प्रचलित हैं: पुरानी और नई।

  1. पुरानी प्रणाली: इसमें विभिन्न प्रकार की छूट और कटौती का लाभ उठाया जा सकता है। इसमें आयकर दरें थोड़ी अधिक होती हैं, लेकिन अगर आपने निवेश, बीमा, चिकित्सा आदि में धन लगाया है तो आप इसका लाभ उठा सकते हैं।
  2. नई प्रणाली: यह प्रणाली 2020 में शुरू की गई थी। इसमें आयकर की दरें कम हैं, लेकिन इसमें अधिकतर छूट और कटौती का लाभ नहीं मिलता है। नई प्रणाली उन लोगों के लिए लाभकारी हो सकती है जिनके पास बहुत कम निवेश और कटौती के दावे हैं।

आयकर रिटर्न दाखिल करते समय यह ध्यान रखें कि आप किस प्रणाली को चुनना चाहते हैं। अगर आप अपनी पसंद स्पष्ट नहीं करते हैं, तो नई प्रणाली को आपकी पसंद माना जाएगा। इसलिए, दोनों प्रणालियों के फायदे और नुकसान को समझकर ही निर्णय लें।

ITR भरते समय जरूरी दस्तावेज

आयकर रिटर्न भरने से पहले निम्नलिखित दस्तावेज़ तैयार रखें:

  1. फॉर्म 16: नौकरीपेशा लोगों के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज़ है जो उनके नियोक्ता द्वारा जारी किया जाता है।
  2. बैंक स्टेटमेंट: यह आपके सभी बैंकिंग लेन-देन का विवरण होता है।
  3. निवेश प्रमाण पत्र: कर बचाने के लिए किए गए निवेश के सभी प्रमाण।
  4. किराये की रसीद: यदि आप किराये भत्ते (एचआरए) पर छूट का दावा कर रहे हैं।
  5. होम लोन स्टेटमेंट: अगर आपने होम लोन लिया है तो इसके ब्याज कटौती के लिए।
  6. पैन कार्ड और आधार कार्ड: ये दोनों दस्तावेज़ आवश्यक हैं।

Nvidia दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी बनी

फॉर्म 26AS की जांच से मिलान

फॉर्म 26AS में आपकी समूची आय और उस पर काटे गए टीडीएस का पूरा ब्योरा होता है। सही कर और रिटर्न भरने के लिए इसकी जांच और मिलान आवश्यक है।

एनुअल इन्फॉर्मेशन स्टेटमेंट (AIS) चेक करें

इसमें ब्याज, लाभांश, शेयरों के सौदों से हुई आय और विदेश से आए पैसे का पूरा विवरण होता है। यह जानकारी आपके रिटर्न में पहले से ही भरी होती है, जिससे रिटर्न भरने की प्रक्रिया सरल हो जाती है।

सही ITR फॉर्म का चयन करें

आयकर विभाग अलग-अलग श्रेणी के करदाताओं के लिए हर साल अलग-अलग रिटर्न फॉर्म जारी करता है। अपनी श्रेणी के अनुसार सही फॉर्म का चयन करें।

सही कटौती का दावा करें

आयकर अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत आप निम्नलिखित कटौतियों का दावा कर सकते हैं:

  1. धारा 80C: 1.5 लाख रुपये तक की कटौती (निवेश, पीएफ, ट्यूशन फीस आदि)।
  2. धारा 80D: स्वास्थ्य बीमा के लिए कटौती।
  3. धारा 80G: दान पर कटौती।
  4. धारा 80TTA: बचत खाते के ब्याज पर कटौती।

इन कटौतियों का सही तरीके से दावा करने से आपकी कर योग्य आय कम हो जाती है और कर देनदारी भी घट जाती है। बहुत से लोग गलत दावा करते हैं यानी वो निवेश कुछ नही करते और आईटीआर फाइल करते समय बचत वाले सेक्शन में मैक्सिमम अमाउंट दिखा कर रिटर्न लेते हैं।

ई-फाइलिंग का उपयोग सुविधाजनक है

आयकर विभाग ई-फाइलिंग को प्रोत्साहित करता है। इसके माध्यम से रिटर्न भरना सहूलियत भरा है और इसमें गलतियों की संभावना कम होती है। पहली बार रिटर्न भरते समय पोर्टल पर अपना अकाउंट खोलें और दिए गए निर्देशों का पालन करें।

वेरिफिकेशन करना न भूलें

आयकर रिटर्न दाखिल करने के बाद 120 दिन के भीतर उसका सत्यापन करना भी जरूरी है। सत्यापन के लिए निम्नलिखित तरीके उपलब्ध हैं:

NIFTY 50 Top 10 Holdings

  1. आधार पर ओटीपी: वन टाइम पासवर्ड (OTP) के माध्यम से।
  2. नेट बैंकिंग: नेट बैंकिंग का उपयोग करके।
  3. आईटीआर-वी की प्रति भेजना: आईटीआर-वी की हस्ताक्षरित प्रति सेंट्रलाइज्ड प्रोसेसिंग सेंटर, बेंगलूरु के पते पर भेजना।

इन सभी बातों का ध्यान रखते हुए आप अपने आयकर रिटर्न को सही और सटीक तरीके से भर सकते हैं।

उम्मीद करता हूं की यह आर्टिकल आपके लिए मददगार साबित होगा, कृपया इसे अपने मित्रों, के साथ अवश्य शेयर करें। आर्टिकल पूरा पढ़ने और अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद!

यह भी पढ़े

Leave a Comment

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now